Hanta virus Latest Virus Name

Hanta virus: क्या कोरोना वायरस की ही तरह है हंतावायरस? चीन में मौत के बाद सता रहा महामारी बनने का डर
कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहे चीन में हंता वायरस से हुई मौत के बाद वहां के लोगों में डर का माहौल है। पहले से ही कोरोना से चीन में हजारों लोगों की मौत हो चुकी है और इस बीच इस हंता वायरस से वहां के यूनान प्रांत में एक व्यक्ति की मौत के बाद लोगों को इसके महामारी बनने का डर सता रहा है। दरअसल, हंता वायरस से पीड़ित व्यक्ति काम कर शाडोंग प्रांत से बस से घर लौट रहा था। उसे हंता वायरस पॉजिटिव पाया गया था। उसकी मौत होने के बाद बस में सवार अन्य 32 लोगों की भी मेडिकल जांच की गई है। तो क्या हंता वायरस भी कोरोना वायरस की तरह खतरनाक वायरस है, क्या यह भी बड़े स्तर पर फैल सकता है? आइए जानते हैं हंता वायरस के बारे में विस्तार से

Latest Update Only On www.todayupdate.in

Hanta virus Latest Virus Name

चीन में कोरोना वायरस के बाद लोगों के मन में हंता वायरस का खतरा भी बढ़ गया है। हंता वायरस क्या है, हंता वायरस के लक्षण क्या हैं और इससे बचने की जुड़ी जानकारी आपको यहां दी जा रही है।

पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कारण सहमी हुई है तो वही चीन में एक नए वायरस के संक्रमण ने वहां के लोगों के साथ-साथ पूरी दुनिया को इसके बारे में परेशान कर दिया है। शुरुआती जानकारी के अनुसार यह वायरस Covid-19 जितना खतरनाक नहीं है। चीन में कोरोना वायरस के कारण हजारों लोगों की मौत हो गई है, इसी बीच इस वायरस के बारे में भी लोग जानना चाह रहे हैं। इसके कारण चीन में एक इंसान की मौत भी हो चुकी है। हंता वायरस कितना खतरनाक है और उसके लक्षण क्या हैं, इसके बारे में नीचे आपको पूरी जानकारी दी जा रही है।

क्या है हंता वायरस के लक्षण
हंता वायरस के लक्षण को आप बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं। सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल और प्रेवेंशन के अनुसार जब कोई इंसान हंता वायरस से संक्रमित होने पर, उसे 101 डिग्री के ऊपर बुखार होता है, उसकी मांसपेशियों में दर्द रहता है और उसे सिर दर्द भी महसूस होता है। इसके साथ-साथ हंता वायरस से संक्रमित व्यक्ति को मतली, उल्टी और पेट दर्द की समस्या भी होती है। साथ ही साथ त्वचा पर लाल दाने भी उभरने लगते हैं।

फिलहाल वैज्ञानिक इसके संक्रमण को रोकने के लिए लगातार अध्ययन कर रहे हैं। डॉक्टरों के द्वारा यह भी कहा गया है कि लोगों को इससे घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह केवल चूहा और गिलहरियों के ही संपर्क में आने से फैलता है। हालांकि हंता वायरस से भारत भी अछूता नहीं रहा है। 2008 और 2016 में दो बार ऐसे मामले सामने आए हैं। फिलहाल एहतियात के तौर पर आप भी अपने आसपास मौजूद चूहों और गिलहरियों से दूरी बनाए रखें।

भारत में कितना खतरा
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशंस की रिपोर्ट के मुताबिक, ये वायरस अभी तक सिर्फ चीन और अर्जेंटीना में ही पाया गया है। चीन में भी फिलहाल इस वायरस से पहली मौत हुई है। चीन में जिस शख्स की मौत हुई, उसे लोगों ने पहले कोरोना से पीड़ित समझा था। बाद में जब बॉडी को अस्पताल लाया गया तो जांच में पता चला कि उसे कोरोना नहीं हंता वायरस था। इसके बाद बस में सवार सभी 32 यात्रियों की जांच की गई। हालांकि, इस मामले में फिलहाल बहुत ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है। सीडीसी के मुताबिक चूहों के मल-मूत्र से दूर रहें तो इस वायरस का संक्रमण नहीं होगा। इस लिहाज से भारत में अभी इसका खतरा नहीं है

हंता वायरस से व्यक्ति की मौत के बाद चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स द्वारा इस घटना की जानकारी दी गई। इसके सोशल मीडिया पर इस वायरस को लेकर डिबेट शुरू हो गई है। ट्विटर पर लोग बड़ी संख्या में इस खबर को ट्वीट कर आशंका जता रहे हैं कि यह वायरस भी कहीं कोरोना की तरह दुनियाभर में न फैल जाए!
सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि चीन के लोगों ने अगर जिंदा जानवरों को खाना बंद नहीं किया तो ऐसे वायरस पैदा होते रहेंगे। कोई कह रहा कि यह वायरस चूहे खाने से फैला है तो कोई कह रहा चमगादड़ या सांप खाने से

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि हंता वायरस, कोरोना वायरस की तरह घातक नहीं है। एक अंग्रेजी वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार हंता वायरस हवा के रास्ते नहीं फैलता है, बल्कि यह व्यक्ति के चूहे या गिलहरी के संपर्क में इंसान के आने से फैलता है। हंता वायरस चूहों में होता है। इस वायरस के कारण चूहों में कोई बीमारी नहीं होती, लेकिन इस वायरस के कारण इंसानों की मौत हो जाती है। सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक चूहों के घर के अंदर और बाहर करने से हंता वायरस के संक्रमण का खतरा होता है।

यह भी बताया जा रहा है कि हंता वायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं होता है। ऐसे में इसके फैलने की संभावना कुछ हद तक कम हो जाती है। लेकिन यदि कोई व्यक्ति चूहों के मल, पेशाब या थूक के संपर्क में आने के बाद उन्हीं हाथों से अपना चेहरा, आंख, नाक या मुंह छूता है तो हंता वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है। अगर कोई स्वस्थ व्यक्ति है और वह हंता वायरस के संपर्क में आता है तो उसके संक्रमित होने का भी खतरा रहता है।

इसके लक्षणों के बारे में बताया जा रहा है कि हंता वायरस से संक्रमित होने पर व्यक्ति को बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, पेट में दर्द, उल्टी, डायरिया आदि हो सकता है। इन लक्षणों के इलाज में देरी होने की स्थिति में संक्रमित व्यक्ति के फेफड़े में पानी भी भर सकता है और उसे सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। चीन में व्यक्ति की मौत भी कुछ ऐसे ही लक्षणों के बाद हुई।

सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक हंता वायरस भी जानलेवा है। इससे संक्रमित हो जाने पर लोगों की मौत का आंकड़ा 38 फीसदी है। यानी हंता वायरस से संक्रमित होने वाले 100 लोगों में से 38 लोगों की मौत होने की संभावना रहती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *